March 2017

तिनका-तिनका करके विश्वास बनाया था,
तेरे जाने से पहले, न होने का एहसास बनाया था|

Transcription of ‘ नटखट सी ज़िन्दगी ‘

ख़ुशी की गुदगुदी देने वाली,
हँसते-हँसते रुलाने वाली,
कल्पनाओं को सपने बनाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

बरसात में मन भिगोने वाली,
हवाओं कि सरसराहट महसूस कराने वाली,
सूर्य कि किरण सी आस जगाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

भावनाओं में बहाने वाली,
गरजते बादल सी बरसने वाली,
दर्द का कहर धरती से दिखाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

ऊँचाई से गिराकर घमंड तोड़ने वाली,
दोस्ती का मरहम लगाकर चुप कराने वाली,
हाथ थामकर भंवर से निकालने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

ख़ुशी कि शुरुआत गम के अंत से करने वाली,
ठोकर पर मार्गदर्शन देने वाली,
सबको हर पल कुछ सिखाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी |


Background Music Credit: There is Romance Kevin MacLeod (incompetech.com)
Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License
http://creativecommons.org/licenses/by/3.0/

Hindi transcription: ‘इसी पल लौट जा’

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा,
मुझपर रोज़ तरस खाने वाले,
ज़र्रा भर तकलीफ तो दे जा|

साथ देने का वादा करने वाले,
एक बार में सारे वादे तोड़ जा,
हर वक़्त मुझे चोट देने वाले,
एक पल चुनकर मुझे मौत तो दे जा|

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा…

सच की कसम खाने वाले,
कुछ कड़वे झूठ तो बोल जा,
दबी सोच कि निंदा करने वाले,
कुछ बेख़ौफ़ बोल भी सुन जा|

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा…

बेचैन रातें देने वाले,
एक चाँदनी रात हमसे ले जा,
अकेला छोड़के जाने वाले,
इन यादों को भी अब तू ले जा|

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा…