2017

A hazy night inviting a walk on the roadside,
Holding hands and looking straight in the eyes,
Those silent chats with blushing smiles,
A tinkling beat is coming from deep inside. 🙂

पहली साँस तो बेपरवाह पँछी सी होती है,
हलक-ए-पर तो बस मोहब्बत की बलि चढ़ते हैं|

banner wordcamp

कैसा लगेगा आपको अगर आपकी सबसे पसंदीदा online community पर कोई conference हो और आपको वहाँ जाने का मौका मिले? या फिर कैसा लगेगा आपको जब उसी conference में आप […]

goodbye 2016

One more year is gone… one more year has just begun. I want to write this blog with full honesty and when I say this, I mean to turn each […]