shayari पन्नो पर बिखरी कुछ ज़िन्दगी