दास्तान

बचपन बीता बचपने में, लड़कपन बीता खेल खिलोनो में, जवानी लायी नयी तरंगें, किताबें न बन पायी उमंग कि पतंगें| भीड़ में सब दौड़ते हैं, दोस्त-साथी पीछे छूट चुके हैं, […]

world-revolving-around-women

When you wake up in the morning, there is a voice which works as your alarm. Do you remember whose voice is that? Yes! It’s your mother’s voice. She is […]