वक़्त-ए-रफ़्तार को थामने की गुस्ताख़ी किस्मत ने क्या की,

कि अंजाम के रूबरू होने से पहले ही मंज़िल बदल दी |

वक़्त की गिरफ्त में जब कुछ आँधियां घिर जाती हैं,
महकती गलियां भी जब खिलखिलाते फूलों को याद करती हैं,
शांत सवेरे जब सन्नाटों कि गूँज में बदल जाते हैं,
तब कहीं, दिल टूटने की खनक दबा दी जाती है|

Innocence Lies Here

These days when we hardly find innocence in the world, I met these little creatures. I couldn’t stop myself so captured the innocence from my mobile camera. The blog post, […]

When things go wrong, you can fix them… when people choose the wrong path, you can direct them… when someone falls, they can stand up… but when someone breaks into pieces, they need a hand to hold these pieces and glue them with love to insert life in a broken person, once again.


Inspired by daily prompt