Audio Blogs

Vaidu speaks loud... so now you can listen to her screams on this page. This page will cover all the audio blogs of Vaidus.

You can also find the transcripts of each audio blog in case you love to read. You may also hear these audio blogs at Vaidus World's SoundCloud and YouTube channel.

Note: Please use earplugs in case you find the problem hearing audio blogs on mobile phone speakers.

Transcription: ‘सच जलता है’

वक़्त कि नाराज़गी हँसती है मुझपर,
शरारती नज़रों से छल करती है अक्सर,
सचाई को नज़रअंदाज़ यूँ ही कर देती है वो,
‘पगली कहकर’, सच का साथ छोड़ देती है वो|

लड़ती-झगड़ती हूँ मैं उसकी इस आदत से,
हठ भी करती हूँ झूठ की दीवारों से,
हार मैं माना करती नहीं,
पर हाँ, थक जाती हूँ इस ज़िद्दी सफर में|

चलते-चलते रुक जाती हूँ झूठ के पथ पर,
फिर साँस गहरी लेती हूँ सच की ज़मीन पर,
खड़ी तो हो जाती हूँ झूठ को झेलने के लिए,
पर चलती हूँ मैं, धीमी गति से फिर अक्सर|

इन रास्तों में झूठ छूट जाते हैं पीछे,
कुछ पल हँसकर वो भी हार जाते हैं सच से,
वक़्त लगता है सच को परवान चढ़ने के लिए,
सच अक्सर जलता है हीरा बनने के लिए|


यदि आप भी कलाकार है और अपनी कला को Vaidus World के माध्यम से दुनिया के सामने लाना चाहते हैं तो मुझे इस पते पर लिखें: bolo@vaidusworld.com|आप मुझे Facebook page द्वारा भी संपर्क कर सकते हैं| मुझे आपका Creative Buddy  बनने में ख़ुशी होगी| मेरे Creative Buddies के लेख व कला आप इस लिंक द्वारा देख सकते हैं |


Background Music Credit: There is Romance Kevin MacLeod (incompetech.com)
Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License
http://creativecommons.org/licenses/by/3.0/

‘Will You Or Will I?’ (New series: Romantic Poems)

I know you will leave me one day,
I know we will part our ways,
I know this will end someday.

You will cry hard and regret what you lost,
You will wish to fix the messy life of yours,
You will try to find a space for your tears,
But your broken heart will wake you up,
Right in the middle of nightmares.

U and I make an egoists couple,
We love to see each other in trouble,
The tears and arguments are the weapons we use,
We don’t leave a single chance to abuse.

You may find a beautiful soul to grow old with,
I may also get a handsome hunk to gift roses,
But will that soul laugh at your silly jokes?
Will my hunk listen to the stories all days long?


If you like this audio blog from the new series of Romantic Poems, please follow Vaidus World or hit the subscribe button on my YouTube Channel.


Background Music Credit: There is Romance Kevin MacLeod (incompetech.com)
Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License
http://creativecommons.org/licenses/by/3.0/

inspired by Today’s Daily Prompt

एक छोटा सा संदेश मेरी कविता, ‘उम्मीद का तिरंगा’ पढ़ने वालो के लिए

मेरी सारी हिन्दी कवितायेँ पढ़ने के लिए यहाँ click करे| यदि आप भी कवितायेँ लिखते हैं और Vaidus World के ज़रिये उन्हें दुनिया के सामने लाने कि इच्छा रखते हैं तो मुझे email (bolo@vaidusworld.com) द्वारा संपर्क करे| चुनी गयी कवितायेँ लेखक के नाम से Creative Buddies के page पर प्रकाशित की जाएँगी| Vaidus World केवल उन्हें दुनिया के सामने प्रस्तुत करने का एक जरिया होगा|

तो चलिए साथ लिखें| क्या पता, Vaidus World पर आपकी पहली कविता लोगों को मेरी कविताओं से भी ज़्यादा पसंद आये| इस बारे में अधिक जानकारी के लिए Creative Buddies का page देखें|

प्रतिलेख: उम्मीद का तिरंगा

एक दिन बादल यूँ ही गरजेंगे,
खुशियाँ बनके वो बरसेंगे,
एक दिन ऐसा भी आएगा,
जब हर बच्चा खिल-खिलायेगा|
लहराते खेतों में जिस दिन,
हर बच्चे का हक़ होगा,
चूले पर रोटी सेख़ती माँ को,
निवाले कम पड़ने का न डर होगा||

उम्मीद से भरी इस दुनिया में,
मैं खाना खोजा करता हूँ|
लहराते तिरंगे में भी मैं,
अक्स, भरे पेट का देखता हूँ||

बहने जब घर से निकलेंगी,
आत्मसम्मान कि चुनरी ओढ़ेंगी,
घूंघट उनका शस्त्र नहीं होगा,
जब हर भाई रक्षक होगा|
आज़ादी की सॉंस खुलकर वो लेंगी,
बेटी हर आँगन में खेलेगी,
जब चीखें हँसी में बदल जाएँगी,
उस दिन लष्मी घर आएगी||

उम्मीद से भरी इस दुनिया में,
मैं आज़ादी खोजा करता हूँ|
लहराते तिरंगे में भी मैं,
बेटी का हक़ ढूँढा करता हूँ||

एक दिन ऐसा भी आएगा,
जब ज्ञान कोने-कोने में पाया जायेगा,
कलम तलवार बनकर ललकारेगी,
व्यापार से बच्चों को बचा निकलेगी|
घर-घर में शिक्षा का मृदंग बजेगा,
बाल मज़दूरी को वो कुचलेगा,
शिक्षित कल का तब जन्म होगा,
बच्चों को पढ़ाना जब बड़ो का धर्म होगा||

उम्मीद से भरी इस दुनिया में,
मैं शिक्षा खोजा करता हूँ|
लहराते तिरंगे में भी मैं,
शिक्षित कल को देखा करता हूँ||


Background Music Credit: There is Romance Kevin MacLeod (incompetech.com)
Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License
http://creativecommons.org/licenses/by/3.0/

Transcription of ‘ नटखट सी ज़िन्दगी ‘

ख़ुशी की गुदगुदी देने वाली,
हँसते-हँसते रुलाने वाली,
कल्पनाओं को सपने बनाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

बरसात में मन भिगोने वाली,
हवाओं कि सरसराहट महसूस कराने वाली,
सूर्य कि किरण सी आस जगाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

भावनाओं में बहाने वाली,
गरजते बादल सी बरसने वाली,
दर्द का कहर धरती से दिखाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

ऊँचाई से गिराकर घमंड तोड़ने वाली,
दोस्ती का मरहम लगाकर चुप कराने वाली,
हाथ थामकर भंवर से निकालने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी|

ख़ुशी कि शुरुआत गम के अंत से करने वाली,
ठोकर पर मार्गदर्शन देने वाली,
सबको हर पल कुछ सिखाने वाली,
तू ही तो है… नटखट सी ज़िन्दगी |


Background Music Credit: There is Romance Kevin MacLeod (incompetech.com)
Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License
http://creativecommons.org/licenses/by/3.0/

Hindi transcription: ‘इसी पल लौट जा’

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा,
मुझपर रोज़ तरस खाने वाले,
ज़र्रा भर तकलीफ तो दे जा|

साथ देने का वादा करने वाले,
एक बार में सारे वादे तोड़ जा,
हर वक़्त मुझे चोट देने वाले,
एक पल चुनकर मुझे मौत तो दे जा|

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा…

सच की कसम खाने वाले,
कुछ कड़वे झूठ तो बोल जा,
दबी सोच कि निंदा करने वाले,
कुछ बेख़ौफ़ बोल भी सुन जा|

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा…

बेचैन रातें देने वाले,
एक चाँदनी रात हमसे ले जा,
अकेला छोड़के जाने वाले,
इन यादों को भी अब तू ले जा|

ऐ, जाने के लिए आने वाले,
बस, इसी पल तू लौट जा…