निडर पँछी

प्यार को खुलकर बयाँ करना,
यूँ ही रोकर दर्द भावना कि कलम से लिख देना,
गलती पर हाँ की मौहर लगा देना,
मोहब्बत को ही जीने का बस मकसद बना लेना|

भावुकता तो बस एक कला मात्र है,
जीवन जीने का छोटा सा मार्ग है,
कमज़ोरी नहीं द्रण्ड अस्तितिव का परिणाम है,
साफ़ दिल व् निडर होने की पहचान है|

मन से मस्तिष्क के तार जुड़ा नहीं करते,
भावुक लोग दिल से हैं सोचा करते,
चिलचिलाती धुप से उज्वल होते हैं,
वो तो बस निडर पँछी से उड़ते हैं|


एक छोटा सा संदेश मेरी कविता, ‘निडर पँछी’ पढ़ने वालो के लिए

मेरी सारी हिन्दी कवितायेँ पढ़ने के लिए यहाँ click करे| यदि आप भी कवितायेँ लिखते हैं और Vaidus World के ज़रिये उन्हें दुनिया के सामने लाने कि इच्छा रखते हैं तो मुझे email (bolo@vaidusworld.com) द्वारा संपर्क करे| चुनी गयी कवितायेँ लेखक के नाम से Creative Buddies के page पर प्रकाशित की जाएँगी| Vaidus World केवल उन्हें दुनिया के सामने प्रस्तुत करने का एक जरिया होगा|

तो चलिए साथ लिखें| क्या पता, Vaidus World पर आपकी पहली कविता लोगों को मेरी कविताओं से भी ज़्यादा पसंद आये| इस बारे में अधिक जानकारी के लिए Creative Buddies का page देखें|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.