hindi poems

वक़्त-ए-रफ़्तार को थामने की गुस्ताख़ी किस्मत ने क्या की,

कि अंजाम के रूबरू होने से पहले ही मंज़िल बदल दी |

ऐ दिल! कुछ पल हमसे भी रूबरू हुआ करो,

बेचैन घड़ियों में साथ दिया करो,

तेरी बदमाश धड़कनें गुदगुदी किया करती हैं,

मेरे चंचल मन को सपने दिखाया करती हैं|

Inspired from The Daily Post

निडर पँछी

प्यार को खुलकर बयाँ करना, यूँ ही रोकर दर्द भावना कि कलम से लिख देना, गलती पर हाँ की मौहर लगा देना, मोहब्बत को ही जीने का बस मकसद बना […]

मित्र

अतीत के पन्नों पर कुछ लोग मिलते हैं, ज़िन्दगी के पथ पर साथ वो चलते हैं, दो दिलों के मिलन के साक्षी बनते हैं, सपने अक्सर उनके आँचल में ही […]