वक़्त-ए-रफ़्तार को थामने की गुस्ताख़ी किस्मत ने क्या की,

कि अंजाम के रूबरू होने से पहले ही मंज़िल बदल दी |

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.