‘हम’ बने होंगे

धुंध की परत आँखों पर बंधी है,
काजल सी पलकों को सजाती है,
दुनिया को झूठे परदे से निहारती है,
तेरे मेरे दरमियाँ दीवार सी खड़ी हो जाती है|

कुछ पल अब इन्हे पिघलने दे,
दर्द की बूंदों से बिछड़ने दे,
दिन निकलेगा काल रात्रि के बाद,
इश्क़ कि किरण होगी अपने साथ|

हमारा साथ मिसाल बनेगा,
जब भीड़ में एकाकी महसूस करेगा,
सबसे बेखबर, जब हम एक-दूजे में डूबे होंगे,
रब को साक्षी रख, ‘हम’ बने होंगे|


मेरी सारी हिन्दी कवितायेँ पढ़ने के लिए यहाँ click करे| यदि आप भी कवितायेँ लिखते हैं और Vaidus World के माध्यम से उन्हें दुनिया के सामने लाने कि इच्छा रखते हैं, तो मुझे email (bolo@vaidusworld.com) द्वारा संपर्क करे| चुनी गयी कवितायेँ लेखक के नाम से Creative Buddies के page पर प्रकाशित की जाएँगी| Vaidus World केवल उन्हें दुनिया के सामने प्रस्तुत करने का एक ज़रिया होगा|

तो चलिए साथ लिखें| क्या पता, Vaidus World पर आपकी पहली कविता लोगों को मेरी कविताओं से भी ज़्यादा पसंद आये| इस बारे में अधिक जानकारी के लिए Creative Buddies का page देखें|

1 Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.