पहली साँस तो बेपरवाह पँछी सी होती है,
हलक-ए-पर तो बस मोहब्बत की बलि चढ़ते हैं|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.