दीवानों कि बस्ती में एक पगली का पहरा था,
खुदा के बंदों पर उसका विश्वास भी तो गहरा था,
बेनक़ाब मुस्कुराती धूप सी खिलती थी वो,
अपनी ही सुध में बेखौफ घूमती थी वो,
कहती थी दुनिया नहीं है मनचले परवानो की,
ये जहाँ तो है खुदा के कुछ अफ़सानो की|

black

She had a date today. Yeah, a blind one at that. However, Priya’s heart and mind were not aligned. She felt excited for a moment and then suddenly sadness engulfed […]

I am pleased to see you,
Oh, I am glad to meet you.
The mock covers the wind,
But the fake smiles never end.