जीवन की विडम्बना

यह जीवन की विडम्बना है,
अंत को खोजना जैसे उसकी लालसा है,
हर पल अंत को पुकारा करती है,
सामने होने पर झुठलाया करती है|
जल्दी में रहा वो करती है,
दौड़ में अव्वल आती है,
तेज़ी रफ़्तार में उसके रहती है,
अंत को छूकर भी पछताती है|
पीछे जैसे कुछ छूट गया हो,
वक़्त से दिल हार गया हो,
अपनों को ढूँढा करती है,
हर पल कुछ अपने, पगली खो देती है|
यह जीवन की ही तो विडम्बना है,
कि पहला कदम ही अंत को खोजता है|


यदि आप भी कलाकार है और अपनी कला को Vaidus World के माध्यम से दुनिया के सामने लाना चाहते हैं तो मुझे एक पते पर लिखें: bolo@vaidusworld.com|आप मुझे Facebook page द्वारा भी संपर्क कर सकते हैं| मुझे आपका Creative Buddy  बनने में ख़ुशी होगी| मेरे Creative Buddies के लेख व कला आप इस लिंक द्वारा देख सकते हैं |

Leave a Reply