बेहाल फ़िज़ूल बेख़ौफ़ अनाड़ी सी थी मैं,
पैमाने से छलकी सुरासार सी थी मैं| 🙂

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.