मोहब्बत नामुमकिन तो नहीं बस सब्र की मुहताज है,
इस उदास बेचैनी को तो बस उनकी आहट का इंतिज़ार है|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.