जब इबादतों कि ताकत कहर बनकर गिरती है,
रक्त में घुलकर पसीने कि महक देती है,
तब किस्मत कि परियाँ भी घुटने टेक देती हैं|

3 Comments


  1. और जिन्दगी एक लम्बी आह लेकर अपना दम तोड़ देती है …

    Reply

    1. ‘खुद से किये हुए वादों को नयी ज़िन्दगी देती है|’

      आपको नहीं लगता कि ये end ज़्यादा बेहतर है ? positive होना अच्छा होता है| हैं न? 🙂

      Reply

      1. बदकिस्मती का दौर जब ऐसे में उफान लेता है
        इबादतों का कहर जिन्दगी को दोज़ख़ बना देता है

        Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.