याद

लव्ज़ों में बयाँ हो जाता तो क्या बात थी,
दर्द सीने में उतर गया था, वो भी एक रात थी|
बिस्तर का एक कोना तब भी भीगा था,
आँचल ने गम अपने बाहों में भरा था,
ओझल तेरा चेहरा दुनिया से हुआ था,
मेरी यादों में घर तेरा फिर से बना था|


My blogs need your attention. Please share your love/critics/suggestions in the comment box below . Will be waiting! 🙂

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.