खामोश अल्फ़ाज़ों को सुनने कि ताकत हम में कहाँ,
ये खता तो अक्सर चुलबुली धड़कनें करती हैं|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.