woman

turning 30

Today’s daily prompt is the word ‘culture’. Though I wrote this blog almost a year ago, I believe this is the most appropriate one for today’s ‘daily prompt’. It shows some unnoticed loopholes of Indian culture. We really need to fix them to make it great in the true sense. Aakuti: What’s up? Prisha: Nothing…

Read more Turning 30

दुल्हन

सेज पर बैठी एक दुल्हन, पिया का इंतज़ार कर रही थी, अब आयेगा पिया यह सोचकर, मन ही मन मुस्कुरा रही थी, आँखें झुकी मन में प्यार, पलके झुकाए कर रही थी पिया का इंतज़ार| इंतज़ार की घडी ख़तम हुयी, उमंग के दरवाज़े खुले, काश यह लम्हा यूँ ही थम जाता, और सिर्फ तुम होते,…

Read more दुल्हन

naari

आज फिर लिखती हूँ, आज फिर कलम को अपनी दास्ताँ सुनती हूँ, दुनिया कहती है मैं किसी काम की नहीं, मैं  तो उनके इशारों की पुतली हूँ वही, फिर भी इस दुनिया को जन्म देने वाली जननी हूँ मैं, अपना अंश देकर इस दुनिया में लाने वाली नारी हूँ मैं। आईने को यह बुत अंजना लगता…

Read more नारी